top of page

काग़ज़ पर खिंची गई रेखा कुछ ज़्यादा तो नहीं बस ये प्रकट करती है कि काग़ज़ का कुछ भाग सियाही में डूब गया है। पर जब दो से ज़्यादा रेखाओं को मिला दिया जाए तब रेखा, रेखा नहीं एक आकृति बन जाती हैं जो वृत्तांत के साथ-साथ काग़ज़ की शोभा भी बढ़ा देती है। जीवन भी काग़ज़ की भाँति है जिस पर हम अपनी सोच द्वारा, चाह द्वारा और दुनिया के प्रभाव से उपजीं रेखाएँ खींच कर बहुत सी आकृतियाँ बनाते हैं। इनमें से कुछ आकृतियों का हमारे साथ गहरा संबंध होता है और कुछ अस्थिर होती हैं, जो समय के साथ बदलती रहती हैं। मनुष्य का चरित्र भी इन आकृतियों पर निर्भर करता हैं। इन आकृतियों को प्रभावित करने वाले  महत्वपूर्ण बिंदुओं को कविताओं द्वारा आपके सामने रखा गया है।

Jeevan Ki Akritiyan

SKU: RM125896
₹89.00Price
  •  

bottom of page